Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बंटते हिन्दू बंटता देश

आतंकी थे वो सीम्मी के पुलिस ने जिनको मार गिराया ।
नींद उडी क्यों नेताओ की आज तलक ये समझ ना आया ॥
देश का बेटा रोज़ मर रहा आतंकी की ही गोली से ।
बोला नहीँ एक भी नेता इस बाबत अपनी टोली से ॥
आतंकी जब भी मरता है मुसलमान ही पाया जाता ।
संरक्षण और वोट की खातिर हिन्दू नेता शोर मचाता ॥
जातिवाद पर बाँट दिया था पहले भी यह हिंदुस्तान ।
नहीँ बाँटने देंगे फ़िर से हम अपना यह देश महान ॥
इस संसार में कई देश है मुसलमानों का देश कहलाते ।
किंतु केवल एक देश है हिन्दुओं की जाति के नाते ॥
नेताओं ने बांटे हिन्दू अलग अलग पार्टिया बनाई ।
पंडित यादव हरिजन कह कर हिन्दू दल में आग लगाई ॥
जातिवाद का ज़हर पिलाकर आतंकी को पाल रहा है ।
एक हो गया जिस दिन हिन्दू देखेगा आतंकी भाग रहा है ॥

जागो जागो हिन्दू जागो

विजय बिज़नोरी

379 Views
You may also like:
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
💔💔...broken
Palak Shreya
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Security Guard
Buddha Prakash
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आस
लक्ष्मी सिंह
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
Loading...