Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2022 · 1 min read

बंजारों का।

क्या पता दे दे हम तुमको अपना।
बंजारों का कहां कोई घर होता है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

124 Views
You may also like:
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
मन की उलझने
Aditya Prakash
तारीफ़ क्या करू तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश
ओनिका सेतिया 'अनु '
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
अपना कंधा अपना सर
विजय कुमार अग्रवाल
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
बेटी का संदेश
Anamika Singh
खुदा का वास्ता।
Taj Mohammad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
जग के पिता
DESH RAJ
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
समय की गर्दिशें चेहरा बिगाड़ देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
कभी मेहरबां।
Taj Mohammad
Loading...