Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2022 · 1 min read

फौजी बनना कहाँ आसान है

फौजी बनना कहाँ आसान है।
इसके लिए सबकुछ कुर्बान करना पड़ता है।
वतन के लिए दुशमन से लड़ना पड़ता है
जरूरत पड़े तो वतन के लिए
जान निछावर करना पड़ता है।
अपने खून के कतरे-कतरे में
देश के लिए जज्बात भरना पड़ता है।
सर्द भरी रातों मे खुद को तपाकर
शरहद पर नजर बिछाएँ रखना पड़ता है।
तपती गर्मी मे भी खुद को जलाकर,
शरहद पर अडिग रहना पड़ता है।
कोई आँच न आए हमारे वतन पर,
इसके लिए जान हथेली पर लेकर
काँटो के ऊपर चलना पड़ता है।
देश में अमन-चैन का बहार बना रहे सदा,
इसलिए अपने जीवन में पतझर भरकर
अपने परिवार से,हर त्यौहार से दूर
शरहद पर टिका रहना पड़ता है।
खुशी-खुशी देश पर मर मिटने का जज्बा
बुलंद कलेजे के अंदर साहस को जगाना पड़ता है।
तिरंगे के आन-बान-शान के लिए
तन-मन-धन सब अर्पण करने का
हौसला दिखाना पड़ता है।

अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 16 Comments · 346 Views
You may also like:
✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️
'अशांत' शेखर
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
आस्तीक -भाग पांच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अग्रोहा (गीतिका)
Ravi Prakash
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
सब कुछ ही छोड़ा है तुझ पर।
Taj Mohammad
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
छुपकर
Dr.sima
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
एक सुन्दरी है
Varun Singh Gautam
कॉल
Seema 'Tu hai na'
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोस्ती और कर्ण
मनोज कर्ण
भगतसिंह की देन
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
हर घर तिरंगा प्यारा हो - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ये रात अलग है जैसे वो रात अलग थी
N.ksahu0007@writer
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
संघर्ष
पंकज कुमार कर्ण
'निशा नशीली'
Godambari Negi
दूर हमसे
Dr fauzia Naseem shad
मंदिर का पत्थर
Deepak Kohli
नसीब
Buddha Prakash
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
उलझनों से तप्त राहें, हैं पहेली सी बनी अब।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
मेरी बनारस यात्रा
विनोद सिल्ला
संगीत
Surjeet Kumar
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...