Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

“फोटोग्राफी”

“फोटोग्राफी”
गुजरे हुए पल की छुअन
आवाजें खुशबुएँ जायके
सब उभर आते हैं,
एक नजर पड़ जाए तो
कोई पत्थर दिल भी
भुला नहीं पाते हैं।
– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

3 Likes · 2 Comments · 75 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Dr. Kishan tandon kranti

You may also like:
2253.
2253.
Dr.Khedu Bharti
कितने उल्टे लोग हैं, कितनी उल्टी सोच ।
कितने उल्टे लोग हैं, कितनी उल्टी सोच ।
Arvind trivedi
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
एक दिन !
एक दिन !
Ranjana Verma
💐अज्ञात के प्रति-43💐
💐अज्ञात के प्रति-43💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चंदा के डोली उठल
चंदा के डोली उठल
Shekhar Chandra Mitra
रौशनी अकूत अंदर,
रौशनी अकूत अंदर,
Satish Srijan
■ तेवरी / देसी ग़ज़ल
■ तेवरी / देसी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
आँखों   पर   ऐनक   चढ़ा   है, और  बुद्धि  कुंद  है।
आँखों पर ऐनक चढ़ा है, और बुद्धि कुंद है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आनंद में सरगम..
आनंद में सरगम..
Vijay kumar Pandey
कविता
कविता
Vandana Namdev
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गंवई गांव के गोठ
गंवई गांव के गोठ
Vijay kannauje
"सन्तुलन"
Dr. Kishan tandon kranti
"सूनी मांग" पार्ट-2 कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत, गुजरात!
Radhakishan Mundhra
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
चित्र गुप्त पूजा
चित्र गुप्त पूजा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi
*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*
*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सत्य को अपना बना लो,
सत्य को अपना बना लो,
Buddha Prakash
माता रानी की भेंट
माता रानी की भेंट
umesh mehra
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
संविधान की शपथ
संविधान की शपथ
मनोज कर्ण
Loading...