Jan 17, 2022 · 1 min read

फैसला

दुआएँ कुबूल हो गई ,उनकी
इश्क से पहले इबादत,
कर गई थी जिसकी,
सौ बार सोचती हूँ उसे
हर लम्हा पूजती थी, जिसे
सबसे बड़ा सत्य यह भी है।
औरत के रूप में , पति का सम्मान ।
बच्ची के रूप में , पिता का सम्मान ।
लड़की के रूप में , भाई का सम्मान ।
नारी के रूप मे,नर का सम्मान |
फिर भी ना प्यार ना सम्मान , नारी के नाम।
हकीकत में फरमान है।
नारी आज भी वस्तु समान है।
आजकल शादी भी ,मर्यादित संस्कार नहीं।
चले तो ठीक है वरना हम से,
सीधे संवाद, मैं और तू।
बढ़ जाती है झंझट तो ,
मोहब्बत भी अदालत के नाम।
फिर तारीख पे तारीख,
कचहरी परिसर का चक्कर।
पैसों, समय की बर्बादी ,
उम्र- गुजर जाती है ।
व्यक्ति (स्त्री-पुरुष ) लटक जाता है ।
फैसला अकट जाती है।
हिंदू में कितने मर्द हैं दिव्य राम।
फिर भी मर्दों का सम्मान हैं।
मुस्लिम में कितने मर्द पैगंबर मोहम्मद हैं।
फिर भी मर्दों की इज्जत है ।
ईसाई में कितने मर्द ईशू हैं।
फिर भी मर्दों स्टेट्स हैं।
दुनियाँ की आधी आबादी नारी, सिर्फ है बेचारी ।
ना दें ये सहारा तो खाने – पीने , आशियाने की,मोहताज,
लानत हैं,नारी
शुरू से अंत तक छाया, पंगु बना गुजार देती हैं जिंदगी।
ऐसी स्थिति में बराबरी की चाह रखना।
अपने-आप में बेईमानी है।
कोसों दूर,ये रखने-छोड़ने की इल्तिजा ( निवेदन ) हैं।
_ डॉ. सीमा कुमारी, बिहार ( भागलपुर )
दिनांक – 5-1-022 की स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

1 Like · 111 Views
You may also like:
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
शेर राजा
Buddha Prakash
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
जल की अहमियत
Utsav Kumar Vats
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
नदियों का दर्द
Anamika Singh
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
नवगीत -
Mahendra Narayan
ऊपज
Mahender Singh Hans
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...