Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2021 · 1 min read

फेरे

चाहे फेरे लीजिए,चाहे कहो कबूल ।
प्यार अगर दिल में नहीं,सब कुछ लगे फिजूल।
सब कुछ लगे फिजूल,फँसा दलदल में जीवन।
टूटे दिल के तार, झड़े नयनों से सावन।
चलते दोनों साथ,जुदा हैं लेकिन राहें।
रहे उसी के साथ,हृदय से जिसको चाहे।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 2 Comments · 247 Views
You may also like:
मेरी राहों में ख़ार
Dr fauzia Naseem shad
How long or is this "Forever?"
Manisha Manjari
■ डूब मरो...
*Author प्रणय प्रभात*
जनता देख रही है खड़ी खड़ी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में काशी छात्र परिषद का गठन
Ravi Prakash
हर इक सैलाब से खुद को
Abhishek Pandey Abhi
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
“ पुराने नये सौगात “
DrLakshman Jha Parimal
*!* कच्ची बुनियाद जिन्दगी की *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पुराने खत
sangeeta beniwal
दर्जी चाचा
Buddha Prakash
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
बहुमत
मनोज कर्ण
ISBN-978-1-989656-10-S ebook
Rashmi Sanjay
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
पागल बना दे
Harshvardhan "आवारा"
जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
इस तरहां धीरे- धीरे
gurudeenverma198
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता
Sunita Gupta
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ऐ काश, ऐसा हो।
Taj Mohammad
अंधेरा मिटाना होगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक दिया जलाये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुभाष चंद्र बोस जयंती
Ram Krishan Rastogi
Loading...