Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 29, 2016 · 1 min read

फूल प्रेम के अगर यहाँ तो बैर भाव के काँटे भी हैं

फूल प्रेम के अगर यहाँ तो बैर भाव के काँटे भी हैं
कहीं चुभे न हमें ही आकर यही सोच ये छाँटे भी हैं
ताकत है परिवार हमारा रिश्तों बिन सूना है जीवन
सुख में बाधा बने कभी तो दुख अपनों ने बाँटे भी है
डॉ अर्चना गुप्ता

191 Views
You may also like:
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
आओ तुम
sangeeta beniwal
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम सब एक है।
Anamika Singh
Nurse An Angel
Buddha Prakash
मेरे पापा
Anamika Singh
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
तीन किताबें
Buddha Prakash
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
पल
sangeeta beniwal
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता का दर्द
Nitu Sah
Loading...