Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2022 · 1 min read

फूल की ललक

फूल की अरमान है कि भगवान की चरणों में रह सखे।

फूल की प्रीति है कि प्रेम की माला बन सखे।

फूल की चाह है कि वीरों के शरीर पर रह सखे।

फूल की इच्छा है कि सुगंध से विश्व को स्वागत दे सखे।

फूल की आकांशा है कि खिल खिल से विश्व को शांति रख सखे।

फूल की अभिलाषा है कि अपना जीवन व्यर्थ न हो सखे।

जि. विजय कुमार
हैदराबाद, तेलंगाना

1 Like · 2 Comments · 138 Views
You may also like:
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
इश्क की खुशबू।
Taj Mohammad
दुनियां फना हो जानी है।
Taj Mohammad
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
पानी का दर्द
Anamika Singh
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
मिसाइल मैन
Anamika Singh
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
हाय रे ये क्या हुआ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
✍️जेरो-ओ-जबर हो गये✍️
'अशांत' शेखर
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
तलाश
Dr. Rajeev Jain
Loading...