Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2017 · 1 min read

फूल की महक

फूल वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके गुलशन को ,
चन्दन वो चन्दन नहीं जो शीतलता दे न सके उपवन को I

फूल को गुमान है कि वह केवल अपने लिए ही जीवन जिया ,
अपने आस-पास किसी को अपनी तनिक खुसबू भी न दिया ,
अपने को फुलवारी का राजा कहलाने में ख़ुशी महसूस किया ,
दूसरे फूलों की महक को प्यारे उपवन में बिखरने भी न दिया ,

फूल वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके इस गुलशन को ,
सूरज वो सूरज नहीं जो प्रकाश की किरणें दे न सके चमन को I

अनोखे फूल की महक :

अनोखा फूल “जहाँ” की ख़ुशी के लिए करता अपना बलिदान ,
“डाली” से बिछुड़कर भी हंसते-2 होता जग की खातिर कुर्बान ,
“इंसान” के जीवन का हर पल महकाने में लुटाता अपनी जान ,
बुझी ज्योति और मालिक के चरणों से उसका प्यार एक समान ,

“फूल” वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके इस गुलशन को,
“सोना” वो “सोना” नहीं जो अपनी चमक दे न सके आभूषण को I

“राज” अनोखे फूल की पंखुड़ी से अपनी “कलम” को सजाता गया,
संकुचित राह से निकलकर इंसानियत की राह की ओर बढ़ता गया,
प्यार-मोहब्बत व अमन के पैगाम से “कलम” को रोशनी देता गया,
दूसरों की खुशियों में “जग के मालिक” की ख़ुशी को तलाशता गया ,

“फूल” वो “फूल” नहीं जो अपनी महक दे न सके इस गुलशन को ,
संत वो संत नहीं जो जन-2 में फैला न सके अमन व इंसानियत को I

******
देशराज “राज”

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1185 Views
You may also like:
समाज का दर्पण और मानव की सोच
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
अहंकार और आत्मगौरव
अमित कुमार
*टिकट न मिलने का दुख (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
गर तुम्हें मुहब्बत है हमसे तो यूं ही अपनाओ हमें।
Taj Mohammad
553 बां प़काश पर्व गुरु नानक देव जी का जन्म...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ अनुभूति
*Author प्रणय प्रभात*
सुई-धागा को बनाया उदरपोषण का जरिया
Shyam Hardaha
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
दूब
Shiva Awasthi
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
इस कहानी को नया इक मोड़ दूँ क्या
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
हाइकु कविता- करवाचौथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वादे
Anurag pandey
कशमकश
Anamika Singh
वक़्त की गर्द में गुम हो के ।
Dr fauzia Naseem shad
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
✍️जिंदगी के सैलाब ✍️
'अशांत' शेखर
एक बर्बाद शायर
Shekhar Chandra Mitra
Writing Challenge- उम्र (Age)
Sahityapedia
क़ुसूरवार
Shyam Sundar Subramanian
हकीकत से रूबरू
कवि दीपक बवेजा
स्थायित्व (Stability)
Shyam Pandey
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
क्या रह गया है अब शेष जो
gurudeenverma198
बीवी हो तो ऐसी... !!
Rakesh Bahanwal
Loading...