Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 15, 2017 · 1 min read

फूल की महक

फूल वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके गुलशन को ,
चन्दन वो चन्दन नहीं जो शीतलता दे न सके उपवन को I

फूल को गुमान है कि वह केवल अपने लिए ही जीवन जिया ,
अपने आस-पास किसी को अपनी तनिक खुसबू भी न दिया ,
अपने को फुलवारी का राजा कहलाने में ख़ुशी महसूस किया ,
दूसरे फूलों की महक को प्यारे उपवन में बिखरने भी न दिया ,

फूल वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके इस गुलशन को ,
सूरज वो सूरज नहीं जो प्रकाश की किरणें दे न सके चमन को I

अनोखे फूल की महक :

अनोखा फूल “जहाँ” की ख़ुशी के लिए करता अपना बलिदान ,
“डाली” से बिछुड़कर भी हंसते-2 होता जग की खातिर कुर्बान ,
“इंसान” के जीवन का हर पल महकाने में लुटाता अपनी जान ,
बुझी ज्योति और मालिक के चरणों से उसका प्यार एक समान ,

“फूल” वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके इस गुलशन को,
“सोना” वो “सोना” नहीं जो अपनी चमक दे न सके आभूषण को I

“राज” अनोखे फूल की पंखुड़ी से अपनी “कलम” को सजाता गया,
संकुचित राह से निकलकर इंसानियत की राह की ओर बढ़ता गया,
प्यार-मोहब्बत व अमन के पैगाम से “कलम” को रोशनी देता गया,
दूसरों की खुशियों में “जग के मालिक” की ख़ुशी को तलाशता गया ,

“फूल” वो “फूल” नहीं जो अपनी महक दे न सके इस गुलशन को ,
संत वो संत नहीं जो जन-2 में फैला न सके अमन व इंसानियत को I

******
देशराज “राज”

922 Views
You may also like:
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
कभी हम भी।
Taj Mohammad
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
मेरे मुस्कराने की वजह तुम हो
Ram Krishan Rastogi
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
वात्सल्य का शजर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
हरिनारायण तनहा
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
💐योगं विना मुक्ति: नः💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
आतुरता
अंजनीत निज्जर
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
हर किसी की बात नही
Anamika Singh
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
काश।
Taj Mohammad
Loading...