Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2022 · 2 min read

फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)

कलियों ने फूलों से कहा!
बहन आजकल यह मनुष्य
जाति कर क्या रहे है !
अपने भाव दिखाने के लिए
हर जगह हमें साथ ले जा रहे है।

इनके दिल से किसी तरह का
कोई भाव आ नही रहा है।
इसलिए चेहरे पर यह अब
खुशी या दर्द का भाव
दिखा नही पा रहे है।
इसलिए शायद हर जगह
हमारी मदद लिए जा रहे है।

पहले तो ऐसा अक्सर होता नही था।
लोग बिना मेरी मदद के ही
अपनी खुशियाँ अपने दर्द
का इजहार कर लिया करते थे,
और बाद में हो सके तो
किसी तरह का कोई उपहार
दे दिया करते थे।

पर अब तो खुशी हो यह गम
हर जगह हमें साथ ले जा रहे है।
और तो और अब अपने मन के मुताबिक
हमें भी रंगो में बाँट रहे है।
गम में जाना है तो उजले रंग का फूल,
प्रेमिका को देना है तो लाल रंग का फूल
दोस्त बनाना है तो पिला रंग का फूल।
न जाने कितने चीजों के लिए
हमें कितने रंगो मे बाँट दिया है।

अपनी एकता को तो पहले
ही तोड़ रहे थे।
अब हमारी एकता को भी
तोड़ने में लगे हुए है।
ईश्वर पर तो हम सब फूल
साथ-साथ चढते थे।
अब हम प्रेमी ,प्रेमिका और
दोस्तो के लिए बँटने लगे है।

यह सब सुनकर फूल ने
अपनी चुप्पी तोड़ी,
बोली बहन इंसान बेचारे भी
अब क्या करे!
यह अपने अंदर प्यार या दर्द
का भाव कहाँ से लाए!
वह तो खुद मशीन बनते जा रहे है।
जिसके कारण उसके मन में
किसी तरह का कोई
भाव आ नही रहा है
इसलिए हर जगह हमें
साथ लिए जा रहे है।

~ अनामिका

6 Likes · 8 Comments · 374 Views
You may also like:
बारिश की बूंद....
श्रद्धा
✍️बात मुख़्तसर बदल जायेगी✍️
'अशांत' शेखर
दर्शय चला
Yash Tanha Shayar Hu
जबकि तुम अक्सर
gurudeenverma198
" समर्पित पति ”
Dr Meenu Poonia
माँ
Dr Archana Gupta
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
आज़ादी के 75 वर्ष ’नारे’
Author Dr. Neeru Mohan
क्रांतिकारी विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Education
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
दीप आवाहन दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सांप्रदायिकता का ज़हर
Shekhar Chandra Mitra
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
शेर
Rajiv Vishal
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
आयेगी मौत तो
Dr fauzia Naseem shad
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
प्रतीक्षा करना पड़ता।
विजय कुमार 'विजय'
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
*अर्बन नक्सल कलम (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
कहानी
Pakhi Jain
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
बेबस-मन
विजय कुमार नामदेव
"शुभ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी" प्यारे कन्हैया बंशी बजइया
Mahesh Tiwari 'Ayen'
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...