Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Jun 1, 2022 · 2 min read

फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)

कलियों ने फूलों से कहा!
बहन आजकल यह मनुष्य
जाति कर क्या रहे है !
अपने भाव दिखाने के लिए
हर जगह हमें साथ ले जा रहे है।

इनके दिल से किसी तरह का
कोई भाव आ नही रहा है।
इसलिए चेहरे पर यह अब
खुशी या दर्द का भाव
दिखा नही पा रहे है।
इसलिए शायद हर जगह
हमारी मदद लिए जा रहे है।

पहले तो ऐसा अक्सर होता नही था।
लोग बिना मेरी मदद के ही
अपनी खुशियाँ अपने दर्द
का इजहार कर लिया करते थे,
और बाद में हो सके तो
किसी तरह का कोई उपहार
दे दिया करते थे।

पर अब तो खुशी हो यह गम
हर जगह हमें साथ ले जा रहे है।
और तो और अब अपने मन के मुताबिक
हमें भी रंगो में बाँट रहे है।
गम में जाना है तो उजले रंग का फूल,
प्रेमिका को देना है तो लाल रंग का फूल
दोस्त बनाना है तो पिला रंग का फूल।
न जाने कितने चीजों के लिए
हमें कितने रंगो मे बाँट दिया है।

अपनी एकता को तो पहले
ही तोड़ रहे थे।
अब हमारी एकता को भी
तोड़ने में लगे हुए है।
ईश्वर पर तो हम सब फूल
साथ-साथ चढते थे।
अब हम प्रेमी ,प्रेमिका और
दोस्तो के लिए बँटने लगे है।

यह सब सुनकर फूल ने
अपनी चुप्पी तोड़ी,
बोली बहन इंसान बेचारे भी
अब क्या करे!
यह अपने अंदर प्यार या दर्द
का भाव कहाँ से लाए!
वह तो खुद मशीन बनते जा रहे है।
जिसके कारण उसके मन में
किसी तरह का कोई
भाव आ नही रहा है
इसलिए हर जगह हमें
साथ लिए जा रहे है।

~ अनामिका

6 Likes · 8 Comments · 171 Views
You may also like:
नहीं हंसी का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
✍️आस्तीन में सांप✍️
'अशांत' शेखर
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
नए नए जज़्बात दे रहा है।
Taj Mohammad
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
प्यार करके।
Taj Mohammad
शोहरत नही मिली।
Taj Mohammad
अच्छा किया तुमने।
Taj Mohammad
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
✍️निशान✍️
'अशांत' शेखर
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
कर तु सलाम वीरो को
Swami Ganganiya
छत्रपति शिवजी महाराज के 392 वें जन्मदिवस के सुअवसर पर...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
एक पत्र पुराने मित्रों के नाम
Ram Krishan Rastogi
तुम कैसे रहते हो।
Taj Mohammad
राखी त्यौहार बंधन का - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
दुश्मन बना देता है।
Taj Mohammad
एक मंज़िल हमें मिले कैसे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...