Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 29, 2022 · 2 min read

फूलो की कहानी,मेरी जुबानी

एक दिन मैं अपने बगिया मे
ऐसे ही घूम रही थी।
तरह- तरह के फूलों को देखकर
मन ही मन खुश हो रही थी।

एक बात मन में बार-बार आ रही थी।
क्या फूल सदा खुश ही रहते हैं,
या कभी उदास भी होते है
यह प्रश्न मन को कई बार सता रहा था!

मैने भी सोचा मन में प्रश्न रखने से अच्छा है ,
आज जाकर फूल से पूछ ही लेती हूँ
कि वह कभी उदास होती है या नहीं।

मै चली गई सीधे फूल के पास
मैंने पूछा- ये फूल रानी!
तुम इतनी जो प्यारी लगती हो।
सदा हंसती हुई दिखती हो ।

हमेशा खिली-खिली लगती हो।
हर समय खुशी में झूमती रहती हो।
तुम अपनी निराली छटा बिखेरती रहती हो।
सच्चाई की तुम मूरत दिखती हो।

पर क्या सब कुछ जैसा दिखाती हो,
क्या तुम वैसे ही होती हो,
या फिर कभी तुम उदास भी होती हो?

फूलो ने कहा -ऐसी कोई बात नही है।
मै भी होती हूँ कई बार उदास ,
पर क्या करूँ ,दिखाती नही हूँ।

मैने भी उत्सुकता वश उससे पूछ लिया।
आखिर वह क्या बात है ,
जो तुम्हे भी उदास करती है?

फूल बोली- जब भौंरे मेरे ईद-गिर्द न मंडराते है।
मेरी पत्तियों को वह छूकर न जाते है।
उनसे जब न मिलता है मुझे प्यार ,
यह सब देख मुझे कहाँ अच्छा लगता है।
यह सब मेरे मन को भी दुखता है,
यह सब देख मेरा मन भी उदास हो जाता है।

जब तपती गर्मी मुझे सताती है ।
बारिश की बुँदे मेरा साथ छोड़कर चली जाती है,
और मुझे तपता हुआ अकेला छोड़ देती है।
यह देख मुझे कहाँ अच्छा लगता है।
मेरे मन को यह बात चूभता है।
यह बात भी मुझे उदास करता हैं।

जब पतझड़ का मौसम आता है,
मेरे पत्ते पेड़ से झड़ जाते है।
वो भी मेरा साथ छोड़ देते है।
मेरे पास इतराने के लिए कुछ नही रह जाता है।
यह देख मेरा मन उदास हो जाता है।

कुछ मनचले जब मेरे बगिया में आते है।
मेरी कलियों को तोड़कर मसल जाते है।
यह सब देख मुझे क्रोध भी आता है।
और मन उदास हो जाता है।

यह सब सुनकर मैंने कहा-हे फूल रानी!
फिर हमारी और तुम्हारी जिन्दगी में
अंतर क्या है?

जिस बात पर तुम उदास होती हो,
उसी बात पर तो मैं भी उदास होती हूँ।
चलो यह शायद जीवन का चक्र है।
खुशी और गम सबके जीवन मैं आता-जाता है।

~ अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 106 Views
You may also like:
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
Security Guard
Buddha Prakash
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
दरारों से।
Taj Mohammad
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H. Amin
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
न थी ।
Rj Anand Prajapati
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुश रहना
dks.lhp
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...