Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2022 · 1 min read

फूलों से।

पत्तों को छूती है, कलियों को सहलाती है
हवा जब फूलों से खुशबू चुराती है ।
a m prahari.

Language: Hindi
124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
बहुत कीमती है दिल का सुकून
बहुत कीमती है दिल का सुकून
shabina. Naaz
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
चाय और गपशप
चाय और गपशप
Seema gupta,Alwar
"आखिरी इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
Muhabhat guljar h,
Muhabhat guljar h,
Sakshi Tripathi
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
Buddha Prakash
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
कवि दीपक बवेजा
अंधभक्ति
अंधभक्ति
मनोज कर्ण
आई दिवाली कोरोना में
आई दिवाली कोरोना में
Tarun Prasad
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है*
Dushyant Kumar
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
💐प्रेम कौतुक-289💐
💐प्रेम कौतुक-289💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ कविता
■ कविता
*Author प्रणय प्रभात*
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*शादी (पाँच दोहे)*
*शादी (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*
*"मजदूर की दो जून रोटी"*
Shashi kala vyas
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
Swati
चलते जाना
चलते जाना
Satish Srijan
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
Dr fauzia Naseem shad
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...