Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 22, 2017 · 1 min read

फूलों की किस्मत

बाग में महकने वाले
फूलों को माली
संभाल लिया करते है,
मगर कीचड़ में
उगने वाले फूलों को
संभालने वाला माली
जग में कहाँ मिलते है?
यों तो महफिल
ताजे फूलों से
सजाया जाता है,
मगर ताजा फूल भी
कभी-कभार मुरझाया सा
नजर आता है ;
फूलों की किस्मत
इंसानों की तरह
ही तो होता है,
किसी को कहीं पलभर
हंसना पड़ता है तो
किसी को कहीं
रोना पड़ता है ।

313 Views
You may also like:
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गीत
शेख़ जाफ़र खान
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
लक्ष्मी सिंह
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...