Sep 1, 2016 · 1 min read

फिर से जिन्दगी तुझमे खो जाये.

वक्त सहमा सा ठहरा एक मुलाक़ात उनसे,
इस बात के चलते हो जाये,

आरज़ू है ठहरी लम्हें हैं ठहरे
बदलो बिन बरसात रुक जाये.

ख़ामोशी न जताये अपना हक सा वो मुझपे,
जो हक था तेरा फिर से हो जाये.

रुठीं हैं रातें देतीं हैं आवाज़ तुझको,
बस इस रात बात फिर से हो जाये.

वक़्त खो जाये उन लम्हों में फिर से
फिर से हाल मेरा, तेरा हो जाये.

तेरी नींदों में किस्सों में आदत में फिर से,
फिर से जिन्दगी तुझमे खो जाये.

230 Views
You may also like:
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
धुँध
Rekha Drolia
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
वो
Shyam Sundar Subramanian
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
प्यार
Swami Ganganiya
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कभी कभी।
Taj Mohammad
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
पिता
Shankar J aanjna
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Saraswati Bajpai
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
Loading...