Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“फिर से चिपको”

फिर से “चिपको”
**************

धरती की अब यही पुकार,
पेड़ पौधे सहित पर्यावरण का मिले प्यार।
नही तो ये धरा बिखर जायेगी,
फिर सब पर अपना कहर बरपाएगी।।

इस धरा के चारों ओर जो हरा भरा आवरण है,
वही इसके आभूषण रूपी पर्यावरण है।
जिससे मिलते; फल,फूल और सब दवा,
ये ही जब हिलते,मचलते तो उसे कहते शुद्ध हवा।।

आज तरस रहे हर प्राणी शुद्ध वायु को,
लील रहा अशुद्ध पवन हर आयु को।
नेता हो, प्रणेता हो,गरीब हो या अमीर,
सब खोजते फिर रहे हर जगह समीर।।

जिसे जीवन में दो चार पेड़ लगाने की क्षमता नही,
उसे ही पेड़ पौधों के प्रति जरा भी ममता नहीं।
हर पल दे जो हर सांसों में साथ,
देखो, मानव उस वृक्ष को कैसे रहा काट।।

थोड़ी जगह के लिए मनुष्य हो रहा कितना विकल,
जंगलों में भी दिखता चहुँओर सिर्फ दावानल।
वनों में भी नहीं रही अब पशु पक्षियों की हलचल,
पता नहीं कैसा होगा, सबका आने वाला कल।।

अब भी संभल जाओ,
जीवन में कम से कम चार पेड़ लगाओ।
धरा के आवरण और अपना जीवन बचाओ,
सिलेंडर मुक्त शुद्ध ऑक्सीजन पाओ।।

आओ सब मिलकर वृक्ष लगाएं,
वर्तमान के साथ अपना भविष्य बनाएं।
जंगल में सदा मंगल रहे,
ये धरती अब और कष्ट, न सहे।।

नष्ट हो रहा पेड़ पौधे और पर्यावरण,
दोष दें हम किसको, किसको।
अगर बचाना है दिल से इसको,
एक बार फिर से “चिपको”, फिर से “चिपको”।।

स्वरचित सह मौलिक

पंकज कर्ण
कटिहार

10 Likes · 6 Comments · 1162 Views
You may also like:
हर गम को ही सह लूंगा।
Taj Mohammad
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
तेरी सलामती।
Taj Mohammad
कभी अलविदा न कहेना....
Dr.Alpa Amin
पायल
Dr. Sunita Singh
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
#किताबों वाली टेबल
Seema Tuhaina
कोई रिश्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
Angad tiwari
Angad Tiwari
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
गर्दिशों की जिन्दगी है।
Taj Mohammad
जहाँ तुम रहती हो
Sidhant Sharma
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
अधूरा यज्ञ (नाटक)*
Ravi Prakash
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
“ यादों के सहारे ”
DrLakshman Jha Parimal
गुरु के अनेक रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
Apology
Mahesh Ojha
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr.Alpa Amin
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
Loading...