Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

फिर भी तो बाकी है

फिर भी तो बाकी है,
मेरी इच्छाऐं और मेरे अरमान,
जिनका नहीं है कोई अन्त,
और बढ़ती जा रही है चाहतें,
मन में उमड़ते विचारों के साथ।

पांच वर्ष का था मैं,
तो सोचता था वयस्क होने की,
बालिग हुआ तो इच्छा जागी,
जीवन साथी और घर बनाने की,
सन्तान हुई तो सोच बदली,
सोचने लगा उनके भविष्य की,
भूल गया फिर शेष रिश्तों को,
बुरे लगने लगे शेष परिचित।

अब मैं खड़ा हूँ ,
उम्र के तीसरे पायदान पर,
और जी रहा हूँ वृद्धाश्रम में,
सरकार की दया पर,
सरकार की उम्मीदों पर,
लगने लगा हूँ मैं अब बुरा,
अपनी सन्तानों को,
यह है मेरी सेवा का प्रतिफल।

नहीं सोचा था कल ऐसा,
कि कौन निभा सकता है,
मुझसे रिश्ता उम्रभर,
किससे मिलेगा मुझको,
बुढ़ापे में अच्छा प्रतिफल,
लेकिन अपना ही तो लहू है,
कैसे तोड़ दूँ इनसे रिश्तें मैं,
इसी विश्वास के साथ,
अपनों से मेरी उम्मीदें,
फिर भी तो बाकी है।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक अणु में इतनी ऊर्जा
एक अणु में इतनी ऊर्जा
AJAY AMITABH SUMAN
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
2490.पूर्णिका
2490.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
मम्मी (बाल कविता)
मम्मी (बाल कविता)
Ravi Prakash
Keep faith in GOD and yourself.
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
Sweet Chocolate
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
आस्तीक भाग-दो
आस्तीक भाग-दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#जंगली फर (चार)....
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
वचन दिवस
वचन दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
दीये की बाती
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
मैं धरा सी
मैं धरा सी
Surinder blackpen
चलो हमसफर यादों के शहर में
चलो हमसफर यादों के शहर में
गनेश रॉय " रावण "
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
Shivraj Anand
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
हारिये न हिम्मत तब तक....
हारिये न हिम्मत तब तक....
कृष्ण मलिक अम्बाला
दिसंबर
दिसंबर
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
“ आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण”
“ आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण”
DrLakshman Jha Parimal
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
✍️नामुक्कमल सफर✍️
✍️नामुक्कमल सफर✍️
'अशांत' शेखर
Loading...