Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ !

फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ !

हमने चाहा यही हम न चाहें तुम्हें,
फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ !
दिल में एक आरज़ू की लहर सी उठे,
ये लहर थम न पाए तो मैं क्या करूँ,
दर्दे दिल का वयाँ हमसे मुमकिन नहीं,
और छुपा भी न पाऊँ तो मई क्या करूँ,
तुम को खत प्रेम के मैं लिखूं रात- दिन,
और लिखे भी न जाएँ तो मैं क्या करूँ,
तुम को देखूं न गर तो सुकूँ न मिले,
और मिला भी न जाये तो मैं क्या करूँ,
हर घडी हमने चाहा भुला दूँ तुम्हें,
पर भुलाया न जाये तो मैं क्या करूँ,
मैंने चाहा मैं खुद को बना लूँ खुदा,
पर खुदाई न जाये तो मैं क्या करूँ,
हमने चाहा यही हम न चाहें तुम्हें,
फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ !

211 Views
You may also like:
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अधुरा सपना
Anamika Singh
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा
Anamika Singh
पिता
Aruna Dogra Sharma
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Keshi Gupta
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...