Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2023 · 1 min read

फिर एक बार 💓

फिर एक बार
दिसम्बर के घने कोहरे सी तुम्हारी याद
लिपटी है मेरे मन से, हो जैसे रेशमी शाल
गुलाबी सुबह की नर्म सुर्य- रश्मियां
अक्सर, छेड़ जाती हैं मेरे अनकहे जज़्बात
सुर्ख गुलाब जब महक अपनी बिखेर देता है
ठंडी हवाएं मदमस्त कर जाती हैं गुलों को
सुने रस्ते पुकार उठते हैं खोल नयनों के द्वार
आंसुओं से बोझिल पलकें, नहीं सोयीं कई रातों से
जी भरता ही कहां है,उन सपनों की मुलाकातों से
जाने फिर ये मुलाकात हो ना हो,हम साथ हो ना हो
सुनो, फिर एक बार*,
ये दिसंबर बहुत सर्द हो चला है
जैसे जम के सो चुके तुम्हारे सारे जज़्बात
लेकिन, दिल को अब भी ये यकीं है
सुबह की नर्म धूप संग सर्द हवा के झोंके
छेड़ ही जायेंगे तुम्हारे मन के तार
फिर एक बार,*
आयेगी तुम्हें भी याद, वो पल-छिन,वो साथ
तब सुनायी देंगी तुम्हें मेरी सिसकियां
ये बीतता दिसंबर भीगा जायेगा मन का हर कोना
जैसे ओस की बुंदों से तरबतर ये लम्बी रात
हां , फिर एक बार।।
©️®️ पल्लवी रानी
सर्वाधिकार सुरक्षित

1 Like · 4 Comments · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
■ कारण कुछ भी हो। भूल सुधार स्वागत योग्य।।
■ कारण कुछ भी हो। भूल सुधार स्वागत योग्य।।
*Author प्रणय प्रभात*
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
लोकतंत्र का खेल
लोकतंत्र का खेल
Anil chobisa
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
वो मुझसे आज भी नाराज है,
वो मुझसे आज भी नाराज है,
शेखर सिंह
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
Dr Archana Gupta
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
"सरल गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
भागअ मत, दुनिया बदलअ
भागअ मत, दुनिया बदलअ
Shekhar Chandra Mitra
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"शौर्य"
Lohit Tamta
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
*नृत्य करोगे तन्मय होकर, तो भी प्रभु मिल जाएँगे 【हिंदी गजल/ग
*नृत्य करोगे तन्मय होकर, तो भी प्रभु मिल जाएँगे 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
कवि दीपक बवेजा
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
Loading...