Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2021 · 1 min read

फितरत

लगता है ऊब गए हो हमसे
जो नजारों की बात करते हो
पहले भी कायल थे अब भी है
मासूमियत से बेज़ार करते हो
बुरा ना मानो तो एक बात नजर करनी थी
ये फितरत तो नही ,जख्मो पर बार करते हो

1 Like · 156 Views
You may also like:
शबनम।
Taj Mohammad
वो पत्थर
shabina. Naaz
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
शब्दों से परे
Mahendra Rai
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
वक़्त
Mahendra Rai
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️ये सफर मेरा...✍️
"अशांत" शेखर
अपनी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
✍️हमउम्र✍️
"अशांत" शेखर
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
किताब।
Amber Srivastava
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी
Anamika Singh
मैं डरती हूं।
Dr.sima
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...