Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#16 Trending Author
May 17, 2022 · 1 min read

फिजूल।

कलियों को फूल बनते देखा है।
मासूमियत को शूल बनते देखा है।।

इतनी मोहब्बत अच्छी नहीं है।
मैने दिलो को फिजूल होते देखा है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 117 Views
You may also like:
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
दिन जल्दी से
नंदन पंडित
✍️भरोसा✍️
'अशांत' शेखर
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
मोहब्बत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
^^मृत्यु: अवश्यम्भावी^^
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
मन
Pakhi Jain
दर्द।
Taj Mohammad
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आजाद वतन के वासी हम
gurudeenverma198
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैंने देखा हैं मौसम को बदलतें हुए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
Loading...