Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

फासले

उनसे नहीं थीं दूरियां मुझको गंवारा कभी,
आए नहीं वो.. अर’ यहां बढ़ते रहे फासले।

Language: Hindi
Tag: शेर
274 Views
You may also like:
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख्वाब
Anamika Singh
किसान क्रान्ति
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
द्रोणाचार्य का डर
Shekhar Chandra Mitra
अपका दिन भी आयेगा...
Rakesh Bahanwal
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
खास लम्हें
निकेश कुमार ठाकुर
अब मैं बहुत खुश हूँ
gurudeenverma198
गणेश चतुर्थी
Ram Krishan Rastogi
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️क्या ये विकास है ?✍️
'अशांत' शेखर
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️सब्र कर✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*अस्पताल का बिल (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
दोहे मेरे मन के
लक्ष्मी सिंह
खींच मत अपनी ओर.....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आपकी सोच जीवन बना भी सकती है बिगाढ़ भी सकती...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
Loading...