Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2021 · 1 min read

” फ़ोटो “

आज नए युग का आगमन जैसे ही हुआ
सभी ने चिल्लाया कि जमाना बदल जाए
अरे परिवर्तन ही तो प्रकृति का नियम है
थोड़ी हवा चले तो मौसम को पलट जाए,
फ़ोटो तो पुरातन काल से ही विद्यमान थी
बस आज इसका थोड़ा स्वरूप बदल जाए
पहले नेगेटिव से धुलकर फ़ोटो में बदलती
वही तस्वीर जो आज प्रिंटर से निकल जाए,
हम तो बचपन में खूब इंतज़ार करते इसका
बोर्ड के परीक्षा फॉर्म के लिए कब फ़ोटो खिंचवाए
अध्यापक कहें फ़ोटो खींचेगी तैयार होकर आना
लगाकर टाई बैल्ट हम फटाफट मेज पर बैठ जाएं,
चार चार बच्चों की एक साथ फ़ोटो खींचती
बाद में कतरनी से हम अलग का कट लगाएं
ब्याह शादि में एल्बम में विराजने की खातिर
दूल्हा दुल्हन के पीछे से नाड़ बाहर हम कर जाएं,
ना रही अब वो रील और ना ही बड़े बड़े कैमरे
डिजिटल कैमरा तो स्टोरेज कार्ड से चल जाए
घड़ी, कंप्यूटर और लैपटॉप में भी आया कैमरा
चलभास की सेल्फी तो आज सबके मन भाए,
फोटोग्राफर बोलता थोड़ा और मुस्कुराओ जी
वो आवाज आज टिचक टिचक में बदल जाए
खुद ही खींच लेते हैं आज हम खुद की फोटो
यह सब देखकर तो फोटो भी मंद मंद मुस्कुराए।

Dr.Meenu Poonia jaipur

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 535 Views
You may also like:
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
एहसास-ए-शु'ऊर
Shyam Sundar Subramanian
मुझसे ये पूछ रहे हैं
gurudeenverma198
गम होते हैं।
Taj Mohammad
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
अथक प्रयास हो
Dr fauzia Naseem shad
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सावन सजनी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
औरत
Rekha Drolia
सच्चा आनंद
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
डर
Sushil chauhan
चांद से गुज़ारिश
Shekhar Chandra Mitra
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
"फौजी और उसका शहीद साथी"
Lohit Tamta
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐तेरे इश्क़ की ग्रेविटी कमजोर है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सदा सुहागन रहो
VINOD KUMAR CHAUHAN
शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में ?
Pravesh Shinde
“प्रतिक्रिया, समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
हिंदी दोहा- बचपन
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
कहीं मर न जाए
Seema 'Tu hai na'
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
Writing Challenge- प्रकाश (Light)
Sahityapedia
Loading...