Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 31, 2021 · 1 min read

फर्ज अपना-अपना

****************************************
धर्म अलग-अलग है हम सबके यहां।
पर मालिक एक है हम सबका वहां।।
हिन्दू- मुस्लिम, सिक्क-इसाई।
हम सब है यहां भाई-भाई।।
ये हिन्दुस्तान पावन है हमारा।
है दुनिया का ये चमकता सितारा।।
ये हमारा फूलों भरा चमन है।
मन-भावन गीतों भरा मधुवन है।।
खुश्बूओं से भरा ये घर है अपना।
जहाॅं में सबसे प्यारा ये घर है अपना।।
देखो! फूंक रहा है कोई घर अपना।
ऐसा कौन है वो दुश्मन अपना।।
कौन है वो फूट का बीज बोने वाला।
कौन है वो धर्म-निरपेक्षता को तोड़ने वाला।।
दुनिया में गिरी है साख हमारी।
किसने रोक दी ये उन्नति हमारी।।
आओं! खोज निकाले दुश्मन अपना।
और बचाले उजड़ता ये चमन अपना।।
टूट रहा है कदम-कदम पे देश अपना।
आज! फर्ज निभालों सब अपना-अपना।।
**********************************
*रचयिता: प्रभु दयाल रानीवाल*=======
=====*उज्जैन*{मध्यप्रदेश}*========
**********************************

1 Like · 1136 Views
You may also like:
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
*श्री शचींद्र भटनागर : एक अध्यात्मवादी गीतकार*
Ravi Prakash
तेरा नाम।
Taj Mohammad
फर्ज
shabina. Naaz
मत करना
dks.lhp
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादों के झरोखों से।
Taj Mohammad
मेरी जान तिरंगा
gurudeenverma198
प्रार्थना
Anamika Singh
✍️सुलूक✍️
'अशांत' शेखर
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
मिलना , क्यों जरूरी है ?
Rakesh Bahanwal
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के...
डी. के. निवातिया
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
बचपन को जिसने अपने
Dr fauzia Naseem shad
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
✍️नियत में जा’ल रहा✍️
'अशांत' शेखर
ज़िंदगी बे'जवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...