Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 1, 2016 · 1 min read

फर्क

बंगले में रहने वाली
मेमसाब से
पूछा महाराज ने
आज क्या बनेगा ?
पालक पनीर या शाही पनीर
बिरियानी और खीर ?
मेडम बोलीं
बना लो सभी कुछ ।
उधर झोंपडी में भी
प्रश्न वही था
आज क्या बनेगा?
जाकर देखूं रसोई में
कुछ है क्या?
थोडे से चावल या आटा
मिट जाए भूख
जिससे आज भर की ।

6 Comments · 374 Views
You may also like:
कशमकश
Anamika Singh
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
आओ तुम
sangeeta beniwal
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादें
kausikigupta315
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
पिता का दर्द
Nitu Sah
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
पिता
Mamta Rani
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
Loading...