Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

फर्क पिज्जा में औ’र निवाले में।

हज़ल

2122……..1212……..22
फर्क पिज्जा में औ’र निवाले में।
है वही जीजा और साले में😊।

एक है सूट बूट टाई में,
दूसरा है फटे दुशाले में।

एक तो सज सॅंवर के मिलता है,
दूसरा हर गरीब खाने में।

हो अगर गर्लफ्रेंड पिज्जा लो,
वो कहां स्वाद है निवाले में।

इक निवाला कहीं से भी ले लो,
तंग पिज्जा हुए हैं लाने में।

खा लो पिज्जा तो शौक में प्रेमी,
जिंदगी है तो बस निवाले में।

……..,✍️ प्रेमी

1 Like · 74 Views
You may also like:
साथ किसने निभाया है
Dr fauzia Naseem shad
दोस्त हो तो ऐसा
Anamika Singh
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
भगवान सा इंसान को दिल में सजा के देख।
सत्य कुमार प्रेमी
कशमकश का दौर
Saraswati Bajpai
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
संघर्ष
Anamika Singh
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
व्यास पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
नशे में मुब्तिला है।
Taj Mohammad
जिंदगी एक कविता
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
✍️हाथ के सारे तिरंगे ऊँचे लहराये..!✍️
'अशांत' शेखर
अभिलाषा
Anamika Singh
चंचल धूप "
Dr Meenu Poonia
लौट आते तो
Dr fauzia Naseem shad
मेरे मुस्कराने की वजह तुम हो
Ram Krishan Rastogi
प्यार करके।
Taj Mohammad
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Anis Shah
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
Loading...