Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2022 · 1 min read

फरिश्ता बन गए हो।

गरीबों के साथ कौन अपनी खुशियाँ बांटता है।
हंसाकर इन सबको तुम यूँ फ़रिश्ता बन गए हो।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

92 Views
You may also like:
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कभी हम भी।
Taj Mohammad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
चिड़ियाँ
Anamika Singh
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
✍️हद ने दूरियां बदली✍️
'अशांत' शेखर
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
होली का संदेश
Anamika Singh
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
✍️जिद्द..!✍️
'अशांत' शेखर
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
दलित
साहित्य गौरव
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा भारत मेरा तिरंगा
Ram Krishan Rastogi
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
या इलाही।
Taj Mohammad
ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
Loading...