Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 20, 2022 · 1 min read

फरियाद

जनता आज कर रही है फरियाद।
सुन लो मेरे ओ सरकार।
अब तो महंगाई को कर दो,
देश से तड़ीपार।
अब बहुत सह लिया हम सब ने,
अब सहा नही यह जाता है।
मंहगाई का यह अत्याचार
अब हमें बहुत रुलाता हैं।
क्या खाए, क्या बच्चों को खिलाएँ
यह सोचकर मन घबराता हैं ।

कितने की थाली से रोटी चली गई है।
कितने सुखी रोटी खाकर
कर रहे है अपना गुजार।
रोजगार पहले ही नहीं थी।
भ्रष्टाचार खत्म भी नही हुई थी।
अब पर गई सब पर भारी
महंगाई की यह मार।
कैसे खर्च चलाए घर का
पूँछ रही जनता सरकार!

आमदनी चंवनी खर्च रूपया
हो रहा हर दिन सरकार।
कर्ज सता रही हैं अलग
अब कोई नहीं दे रहा उधार।
महंगाई की इस बोझ तले
अब हम सब हो रहे है बीमार।
अब हम जनता की आस आप हो,
अब न करो निराश सरकार।

आने से पहले आपने बड़ी – बड़ी
बातों से हम सब का
मन को मोहा था।
भरष्टाचार देश से हटाएँगे।
सबको रोजगार दिलाएँगे।
मंहगाई को दूर भगाएँगे।
ऐसा बोल – बोलकर आपने
यह चुनाव जीता था।

अब तो अमल करो अपनी बातों पर
महंगाई करो दूर सरकार।
रोजगार दिलाओ युवाओ को
मिटाओ देश से भ्रष्टाचार।
अब ज्यादा दिन नहीं है फिर
आना है आपको जनता के द्वार।
फिर जनता लेगी आपसे,
इन वर्षों का हिसाब किताब।
फिर जनता प्रश्न करेगी!
क्या किया आपने हम सब
के लिए सरकार!

~अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 84 Views
You may also like:
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
"अंतरात्मा"
Dr. Alpa H. Amin
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
आपातकाल
Shriyansh Gupta
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
सच
अंजनीत निज्जर
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Time never returns
Buddha Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भ्रम है पाला
Dr. Alpa H. Amin
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
रसीला आम
Buddha Prakash
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
Loading...