Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2022 · 1 min read

फरवरी आई

आई फिर से फरवरी, लिये प्यार के रंग
बासन्ती मौसम हुआ, मन में भरी उमंग
मन में भरी उमंग, नयन में मीठे सपने
अधरों पर मुस्कान, पाँव भी लगे थिरकने
कहे अर्चना बात, फरवरी मन को भाई
रंगबिरंगे फूल, बहारें लेकर आई

02-02-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 256 Views

Books from Dr Archana Gupta

You may also like:
क्या ठहर जाना ठीक है
क्या ठहर जाना ठीक है
कवि दीपक बवेजा
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
Ravi Prakash
🙏मॉं कात्यायनी🙏
🙏मॉं कात्यायनी🙏
पंकज कुमार कर्ण
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
हौसलों की ही जीत होती है
हौसलों की ही जीत होती है
Dr fauzia Naseem shad
"अबकी जाड़ा कबले जाई "
Rajkumar Bhatt
आज का भारत
आज का भारत
Shekhar Chandra Mitra
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
Abhishek Pandey Abhi
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
कविता ही हो /
कविता ही हो /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों...
Manisha Manjari
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
कलयुग का परिचय
कलयुग का परिचय
Nishant prakhar
कृष्ण अर्जुन संवाद
कृष्ण अर्जुन संवाद
Ravi Yadav
कला
कला
मनोज कर्ण
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार अंधा होता है
प्यार अंधा होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टुलिया........... (कहानी)
टुलिया........... (कहानी)
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
विचार
विचार
Shyam Pandey
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस नेता छत्तीसगढ़ । Bhuneshwar sinha politician chattisgarh
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस नेता छत्तीसगढ़ । Bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bhuneshwar sinha
Atma & Paramatma
Atma & Paramatma
Shyam Sundar Subramanian
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
प्यारे गुलनार लाये है
प्यारे गुलनार लाये है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ये आँसू मत बहाओ तुम
ये आँसू मत बहाओ तुम
gurudeenverma198
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
मुस्कान
मुस्कान
Saraswati Bajpai
💐अज्ञात के प्रति-25💐
💐अज्ञात के प्रति-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...