Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 12, 2022 · 1 min read

प्रेम…

प्रेम,
कितना उलझा सा शब्द हैं ना,
और
तुम,
कितना अनसमझा सा एक सवाल हो..
तुम पास थे,
तब तुमसे दूर रहने के बहानों में अटकी थी,
और जब तुम दूर हो,
तो तुम्हारें लौट आने की एक आस ,
चिंगारी की तरह मन में सुलग रहीं हैं,
तुम्हें पुकारें … तो कैसे पुकारें….
तुम हो … फिर भी कहाँ हो?
हर एहसास में तुम्हें बसाना हैं,
लेकिन समझ सको .. वो जज्बात तुम्हारें पास कहाँ हैं,
हर दर्द में, तुमसे लिपटकर रोना चाहा था,
हर खुशी को तुम तक ही सिमटना चाहा था,
जिस्म को नहीं, तुम्हारी रूँह को अपनाना चाहा था,
जिस तरह मैं अपने हर दर्द को तुमसे बाँट रहीं थी,
तुम भी तो मेरी आँचल में अपना सर्वस्व पा लों,
बस..यहीं एक सत्य समझा था,
काश! तुम इन बातों को समझ सको,
मेरी आखरी साँस से पहले
लौट आओगे ,इन पलों में मेरा अपना बनने के लिए,
जितना कुछ बाकी बचा हैं,
सिमट ना सकों तो कोई गम नहीं,
लेकिन इस बार सब कुछ तुम कहीं खो ना दो हमेशा के लिए…
उम्मीद .. जिंदा रहेगी मेरी आखरी साँस तक,
गली तुमने बदल ली हैं,
लेकिन,
मेरे अपनेपन का दरवाजा आज भी तुम्हारे इंतजार में,
खुला हैं … खुला ही रहेगा …मेरी मौत के बाद भी …
#ks

1 Comment · 88 Views
You may also like:
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
"अशांत" शेखर
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
** शरारत **
Dr. Alpa H. Amin
मज़ाक बन के रह गए हैं।
Taj Mohammad
शासन वही करता है
gurudeenverma198
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
मां बाप की दुआओं का असर
Ram Krishan Rastogi
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
Loading...