Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

प्रेम

प्रेम तो एक बहती नदिया
जहाँ झुकाव वही बह जाती हैं !
सागर को मान प्रेम पड़ाव
वही लगाव वही रह जाती है !

बना बांध रोक दो कही
तोड़ बांध बाढ़ सी बढ़ी जाती हैं !
सागर मिलन की यही तड़प
प्रेमी मन में भी पढ़ी जाती है !

प्रेम तो एक उड़ता बादल
जहाँ हवा वही उड़ जाता है !
प्रेमी की प्यास बुझाने खुद
मिट के बूंदो से जुड़ जाता है !

प्रेम तो एक खिलता फूल
एक फूल दो मन में है खिलता !
एक फूल महके दो मन महकते
एक प्रेमफूल अनोखा दो में मिलता !

प्रेमपूजा बड़ी पूजा से
जिसमें ना केवल दर्शन है पाना !
प्रेमी के दर्शन पाकर
बस प्रेमी में ही समा है जाना !

प्रेम मधुर संगीत की धुन
बजे मन में हरपल पल-पल !
प्रेमधुन गाये जो मन
उसमें प्रेमधारा बहे कल-कल !

प्रेम है परीक्षा पर्यन्त
उत्तर जिसके सभी है आना !
यहाँ प्रेम परीक्षा पर्याय
बस परीक्षा में ही रह है जाना !

प्रेम ही है जीवन
प्रेम ही जीवन को देता है अर्थ !
प्रेम विहीन जीवन ये
जीवन लगता है व्यर्थ !

प्रेम सर्वोच्च प्रेम ही सर्वश्रेष्ठ
प्रेम सर्वोपरि प्रेम ही सर्वोत्तम !
प्रेम के एक-एक क्षण
एक-एक पल जीवन के उत्तम !
~०~
मौलिक एंव स्वरचित : कविता प्रतियोगिता
रचना संख्या-२३ जीवनसवारो,जून २०२३.

Language: Hindi
1 Like · 110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घरवाली की मार
घरवाली की मार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"वक्त वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
'ताश का पत्ता
'ताश का पत्ता"
पंकज कुमार कर्ण
पिता अब बुढाने लगे है
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
श्याम घनाक्षरी-2
श्याम घनाक्षरी-2
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम किसके लिए हो?
तुम किसके लिए हो?
Shekhar Chandra Mitra
"लायक़" लोग अतीत की
*Author प्रणय प्रभात*
पंडित जी
पंडित जी
आकांक्षा राय
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
जय जय तिरंगा
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-96💐
💐अज्ञात के प्रति-96💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
आज़ाद फ़िज़ाओं में उड़ जाऊंगी एक दिन
Dr fauzia Naseem shad
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
"चिराग"
Ekta chitrangini
मैं मजदूर हूँ!
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
*होली का हवन (दस दोहे, एक मुक्तक)*
*होली का हवन (दस दोहे, एक मुक्तक)*
Ravi Prakash
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
Sonu sugandh
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
प्रेम
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
श्याम सिंह बिष्ट
नहीं बचेगी जल विन मीन
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्ध धम्म में चलें
बुद्ध धम्म में चलें
Buddha Prakash
यह सागर कितना प्यासा है।
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...