Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 2 min read

प्रेम पर्दे के जाने “””””””””””””””””””””””'”””””””””””””””””””””””””””””””””

मैं, मेरे ख़त के मुसाफ़िर
क्या ये प्रेम पर्दे के जाने को ?
रहती कहती ये पड़ी यहीं हैं
जानती मगर अब ये भी नहीं

जवानी, यौवन रही कामुक काम
तड़प – तड़प उठी कहर मन में
ये कसर बाकी है पर न जानें ये
तन सौंदर्य थी पर भोग नहीं कोई

ये सफ़र में कौन‌ रहा किस रन्ध्र में
बता दूं कह नहीं पाता मैं करूण को
रह-रह यह देती किसे पन्थ के महफ़िल
महक नहीं मेरे प्रिय/प्रियतमा तो ही नहीं

हर एक में ढूंढू पर राह नहीं हल नहीं
कुदरत के लिए कुदरत को पाने को
तुझे पाने की तमन्ना पहले, बस अब नहीं
तेरे यौवन बदन किसके भोग के सज रही

ख्वाब बंजारे-सी रहती हृदय तो‌ और पाने को
समा जाता हूं खुद में, बहा देता, दहलीज़ पे नहीं
न कोई अपनत्व, न ही बदन को कोई भोग पाने
किस कदर सृजन महकेंगे, मेरे सफ़र के लिए

तेरे स्पर्श की अनुभूति कल्पनीय है पर तू नहीं
मुखरे कमल खिलती पंक जैसे मानो नव कण
करंट उर में रहती नस नस में झुनझुन सी तड़प
तुझे पाता हूं अपने ऊपर कभी तेरे ऊपर खुद को

किस कसमसाई से चुम्बन अहा-अहा भर देता
तुझे बांह में जकड़ जोर से पकड़ असंतुष्ट – सा
टूट पड़ता तुझपे तेरे समर्पण के समंदर के भव में
मसल-मसल के जन्नत की खुशामद आनन्द भरता

निचोड़-निचोड़ के केवल तुझे पाता, पाने को है
परिणय बंधन में एक हमसफ़र हैं ये अर्द्गागिनी हैं
मेरे साथ चलने को, सिने से लगाने को मुझको
खड़े हैं मेरी नैया के खैवया हैं शुरू हैं जाने को

Language: Hindi
Tag: Poem
2 Likes · 156 Views
You may also like:
आनंद में सरगम..
Vijay kumar Pandey
मंजिल को अपना मान लिया !
Kuldeep mishra (KD)
बजट का समायोजन (एक व्यंग)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्व मानसिक दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दो पँक्ति दिल से
N.ksahu0007@writer
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
" ठंडी ठंडी ठंडाई "
Dr Meenu Poonia
🙏माता ब्रह्मचारिणी🙏
पंकज कुमार कर्ण
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
ये दुनिया इश्क़ को, अनगिनत नामों से बुलाती है, उसकी...
Manisha Manjari
शिशिर की रात
लक्ष्मी सिंह
तिरंगा
Pakhi Jain
सृजन
Prakash Chandra
ये दिल
shabina. Naaz
तेरी यादें मुझे सोने नहीं देती
Ram Krishan Rastogi
शुभारम्भ है
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम मुस्कुराकर बड़े ही शौक से दे देंगे।
Taj Mohammad
*कौवा( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
सच्चा प्यार
Anamika Singh
महाशून्य
Utkarsh Dubey “Kokil”
लघुकथा- उम्मीद की किरण
Akib Javed
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों के अधिकार
Shekhar Chandra Mitra
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
तू इंसान है
Sushil chauhan
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
मुझसे तो होगा नहीं अब
gurudeenverma198
Loading...