Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 31, 2022 · 2 min read

प्रेम पर्दे के जाने “””””””””””””””””””””””'”””””””””””””””””””””””””””””””””

मैं, मेरे ख़त के मुसाफ़िर
क्या ये प्रेम पर्दे के जाने को ?
रहती कहती ये पड़ी यहीं हैं
जानती मगर अब ये भी नहीं

जवानी, यौवन रही कामुक काम
तड़प – तड़प उठी कहर मन में
ये कसर बाकी है पर न जानें ये
तन सौंदर्य थी पर भोग नहीं कोई

ये सफ़र में कौन‌ रहा किस रन्ध्र में
बता दूं कह नहीं पाता मैं करूण को
रह-रह यह देती किसे पन्थ के महफ़िल
महक नहीं मेरे प्रिय/प्रियतमा तो ही नहीं

हर एक में ढूंढू पर राह नहीं हल नहीं
कुदरत के लिए कुदरत को पाने को
तुझे पाने की तमन्ना पहले, बस अब नहीं
तेरे यौवन बदन किसके भोग के सज रही

ख्वाब बंजारे-सी रहती हृदय तो‌ और पाने को
समा जाता हूं खुद में, बहा देता, दहलीज़ पे नहीं
न कोई अपनत्व, न ही बदन को कोई भोग पाने
किस कदर सृजन महकेंगे, मेरे सफ़र के लिए

तेरे स्पर्श की अनुभूति कल्पनीय है पर तू नहीं
मुखरे कमल खिलती पंक जैसे मानो नव कण
करंट उर में रहती नस नस में झुनझुन सी तड़प
तुझे पाता हूं अपने ऊपर कभी तेरे ऊपर खुद को

किस कसमसाई से चुम्बन अहा-अहा भर देता
तुझे बांह में जकड़ जोर से पकड़ असंतुष्ट – सा
टूट पड़ता तुझपे तेरे समर्पण के समंदर के भव में
मसल-मसल के जन्नत की खुशामद आनन्द भरता

निचोड़-निचोड़ के केवल तुझे पाता, पाने को है
परिणय बंधन में एक हमसफ़र हैं ये अर्द्गागिनी हैं
मेरे साथ चलने को, सिने से लगाने को मुझको
खड़े हैं मेरी नैया के खैवया हैं शुरू हैं जाने को

1 Like · 33 Views
You may also like:
✍️आखरी सफर पे हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
सीधे सीधे कहते हैं।
Taj Mohammad
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हम जिधर जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
In my Life.
Taj Mohammad
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr.Alpa Amin
आईना हम कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
नदियों का दर्द
Anamika Singh
तेरी कातिल नजरो से
Ram Krishan Rastogi
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
आपकी स्वतन्त्रता
Dr fauzia Naseem shad
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
शहर-शहर घूमता हूं।
Taj Mohammad
जीवन
vikash Kumar Nidan
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️बर्दाश्त की हद✍️
"अशांत" शेखर
Loading...