Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 29, 2017 · 1 min read

प्रेम दानव

थोड़ा कुछ अनकहा सुन लो आज ,
गर प्रेम-दानव को भीतर के जगा ही चुके हो तुम।

के होंठ तेरे,सिमट लू मेरो में,प्यास थोड़ी कुछ ज्यादा सी लगती है आज की,!!
के बदन तेरा तपता है,थोड़ा कुछ यूं कपता भी है,
कवक्ष पहना ही दु आज इसे,थोड़ी कुछ हठभरी सी,शरारतो का!!
आँखे तेरी,नशे में डूबी सी लगती है,
हो कुछ प्याले का असर शायद,पर थोड़े कुछ मेरे नशे की भी कमी तो ना लगती है!!
घबराहट की बूंदे,माथे पर इंगित हर अगले क्षण को कर रही,
थोड़ी कुछ मुझे भी पहल करने की जरूरत की सी है!!
प्रेम दानव को भीतर के गर जगा ही चुके हो तुम,फिर जगजाहिर इश्क़ को करने में देरी कैसी है??

2 Likes · 1 Comment · 271 Views
You may also like:
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
पिता
Saraswati Bajpai
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
मेरी लेखनी
Anamika Singh
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
बुध्द गीत
Buddha Prakash
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...