Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2017 · 2 min read

प्रेम की किताब

मन–मंदिर में एक दिन मेरी नज़र एक किताब पर पड़ गई ,
इस अनोखी किताब को पढ़कर मेरी तक़दीर ही बदल गई ,
“जग के मालिक” के प्यार की दौलत मेरी झोली में भर गई ,
मेरी वीरान बगिया “ प्रेम के फूलों ” की खुशबू से महक गई ,
“जग के मालिक ” के कदमों में गुनाहगार की अर्जी लग गई I

अनमोल किताब को पढ़कर अब इस जग में कुछ भी छुपा न रहा ,
इस किताब को जिसने भी पढ़ा प्रेम की डगर पर बढ़ता ही गया ,
संकुचित न रह कर वो परमपिता की रोशनी में खूब निखरता रहा ,
“जग के मालिक” के कार्यों को करके उसने मजलूमों को रास्ता दिया ,
“मेरा भारत महान ” के सच्चे सपूत होने का उसने पुख्ता सबूत दिया I

संत-महापुरुषों ने किताब को पढ़कर प्यार का रास्ता दिखाया ,
इंसानियत की पगडंडियों पर चलने का हमें इसका महत्व बताया ,
लेकिन उनको दरकिनार कर हमने झूठ – फ़रेब का मार्ग बनाया ,
खूबसूरत “ चमन ” में कफ़न का कारोबार हरतरफ बेहिसाब बढ़ाया ,
नफरत की दीवारों के मध्य हमने आलीशान घरौंदा उसमें सजाया I

“जहाँ ” में इंसानियत को दफ़न कर वो किताब का नाम पूछ रहे ,
किताब को तार-2 करके वो किताब के रचयिता का नाम पूछ रहे ,
जगमगाते जग में “ जग के पालनहार ” से प्यार का हिसाब पूछ रहे ,
प्रेम की किताब किनारे करके वो घ्रणा- नफरत का सामान बेच रहे ,
बेसहारों की सिसकियों में अपनी खुशियों का एक संसार खोज रहे ,

“राज” को इस जगमग जग में आया है अब ज्ञान ,
जग के मालिक ने लिखी है यह प्रेम की किताब,
महापुरुषों ने अपने जीवन में इसे उतारा बेहिसाब ,
हम भी इसे अपने जीवन में ढालकर बनें बेमिसाल ,
ह्रदय में विराजे प्रेम की किताब फिर निकले मेरी जान I

***
देशराज “राज”
कानपुर

Language: Hindi
1597 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from DESH RAJ
View all
You may also like:
हौसला
हौसला
Monika Verma
पिता के चरणों को नमन ।
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
कहवां जाइं
कहवां जाइं
Dhirendra Panchal
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
कुछ तो ऐसा कर जाओ
कुछ तो ऐसा कर जाओ
कवि दीपक बवेजा
यह कब जान पाता है एक फूल,
यह कब जान पाता है एक फूल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फितरत
फितरत
kavita verma
वफ़ा
वफ़ा
shabina. Naaz
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
Rakmish Sultanpuri
"ज़िंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या खाक़ जीया करते है
Mukul Koushik
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
Sanjay ' शून्य'
उपहार
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
धरा करे मनुहार…
धरा करे मनुहार…
Rekha Drolia
✍️सुलूक✍️
✍️सुलूक✍️
'अशांत' शेखर
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
🙏😊🙏
🙏😊🙏
Neelam Sharma
गुज़रा है वक्त लेकिन
गुज़रा है वक्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
हमारे त्यौहार: हमारा विक्रम संवत
हमारे त्यौहार: हमारा विक्रम संवत
Ravi Prakash
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" पलास "
Pushpraj Anant
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
अमर शहीद चंद्रशेखर
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...