Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 11, 2016 · 1 min read

[[ प्रेम की अब बाँसुरी लेकर चले कान्हा ]]

प्रेम की अब बाँसुरी लेकर चले कान्हा ,!
प्रेम की इस तान पर हम मर मिटे कान्हा ,!!

प्रेम का रिश्ता बनाया,सँग तुम्हारे दिल से ,!
तुम निभाना साथ मेरा दिल कहे कान्हा ,!!

#नितिन_शर्मा

144 Views
You may also like:
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
संघर्ष
Sushil chauhan
पिता
Aruna Dogra Sharma
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पापा
Anamika Singh
कशमकश
Anamika Singh
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
# पिता ...
Chinta netam " मन "
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
कर्म का मर्म
Pooja Singh
Loading...