Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2021 · 1 min read

प्रेम का आँगन

प्रेम का आँगन
°°°°°°°°°°°°°°
तल्खियां नफरत भिंगोकर,
स्वार्थ का संसार रचते ।
हसरतें मोहित भंवर को ,
प्रेम का आंँगन समझते।

पीठ में खंजर चुभोकर ,
दहशतों का मंजर बनाते ।
घाव हर दिल में लगाकर ,
भाग्य का सिकंदर कहलाते।

प्रेम का आँगन अनंत है ,
अपरिमित व्योम के व्यास जैसा।
नाप सका न कोई अब तक ,
भरत-प्रेम-मिलाप जैसा ।

प्रेम अलौकिक दिव्य अनुभूति,
मीरा के निश्छल भजन सा ।
अज्ञानियों के लिए रहस्य बनता ,
गोपियां श्रीकृष्ण महारास जैसा ।

प्रेम तप है प्रेम पूजा,
निष्काम प्रेम करे रैदासा।
प्रेम यदि प्रभु रम गया तो ,
कठौती में गंगा प्रकटसा।

झूठे प्रेम दिखावे में दूनियां ,
महफ़िल-महफ़िल खाक छाने।
जाम मद अधरों लगाकर ,
प्रेम से नित्य दूर जावे ।

कलुषित मानव मन क्या समझे ,
प्रेम की अपार क्षमता ।
प्रेम गर दिल बस गया तो ,
स्वार्थ का संसार त्यजता ।

ग़फलतों में मत रहो अब ,
दिखता जो वो,मन का आँगन।
सकल हृदय विस्तार ही है ,
हकीकतों में प्रेम आँगन।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०९ /११ /२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 6 Comments · 1099 Views
You may also like:
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
हवा का झोका हू
AK Your Quote Shayari
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
चलो करें धूम - धड़ाका..
लक्ष्मी सिंह
दस्तक
Anamika Singh
मैं ही मैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
■ #ग़ज़ल / अक़्सर बनाता हूँ....!
प्रणय प्रभात
सलामत् रहे ....
shabina. Naaz
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
रावण दहन
Ashish Kumar
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
देह मिलन
Kavita Chouhan
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️हृदय में मिलेगा मेरा भारत महान✍️
'अशांत' शेखर
रिश्ता नहीं जाता
Dr fauzia Naseem shad
अंबेडकर की आख़िरी इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
सपना देखा है तो
कवि दीपक बवेजा
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
*पूजा का थाल (छह दोहे)*
Ravi Prakash
💐कह भी डालो यार 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
खुशबू
DESH RAJ
मय्यत पर मेरी।
Taj Mohammad
इस्लाम का विकृत रूप और हिंदुओं के पतन के कारण...
Pravesh Shinde
Loading...