Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2021 · 1 min read

प्रीत की वर्षा

जब से तुझसे प्रीत लगाई
अमर प्रेम?की हुई सगाई।
मन से मन का मिलन हो गया
शहनाईयाँ भी देतीं बधाई।।

प्रीत की वर्षा पाकर खिलता
सुनसान मरूस्थल सा जीवन
पुलकित होते बाग – बगीचे
राधाकृष्णन सा वृन्दावन।।
जब से तुझसे प्रीत लगाई…

सर सर करते पवन देव भी
आतुर हो पहुंचे मधुवन ।
चम्पा, चमेली, लता, पता सब
मयूरा नाचें घर – आंगन ।।
जब से तुझसे प्रीत लगाई…..

उमड़ उमड़ घिरते तब घन
भाव-वृष्टि रोमांचित मन।
हर्षित होता तन ओ मन
झूला झुलाते राधा- कृष्ण।।
जब से तुझसे प्रीत लगाई…

तपन हुयी कम बैर भाव की
अन्तर में उपजा नन्दन- वन।
मेरी प्रीत तपस्या पावन
जन्म-जन्म का यह बन्धन ।।
जब से तुझसे प्रीत लगाई….

स्वरचित : डाॅ.रेखा सक्सेना

3 Likes · 3 Comments · 194 Views
You may also like:
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
ख्वाब तो यही देखा है
gurudeenverma198
किताब।
Amber Srivastava
नज़रिया
Shyam Sundar Subramanian
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
आमाल।
Taj Mohammad
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Meenakshi Nagar
यह मत भूलों हमने कैसे आजादी पाई है
Anamika Singh
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
आज भी याद है।
Taj Mohammad
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
“सावधान व्हाट्सप्प मित्र ”
DrLakshman Jha Parimal
पागल हूं जो दिन रात तुझे सोचता हूं।
Harshvardhan "आवारा"
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
हमारी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️खलबली✍️
'अशांत' शेखर
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समाजसेवा
Kanchan Khanna
Loading...