Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2016 · 1 min read

प्रीत की डोर

ये अश्क होते मोती
यदि आँख तेरी रोती

लेता पिरो मैं आँसू
जो प्रीत डोर होती

मै बांसुरी सा बजता
तू होश अपने खोती

दिल हार के मैं हँसता
तू जीत कर भी रोती

मैं नींद तेरी बनता
तू ख्वाब बस संजोती

मै चांदनी ले आता
तू रातरानी सोती

-डॉ अर्चना गुप्ता(मुरादाबाद उप्र)

1 Like · 27 Comments · 2591 Views
You may also like:
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
*मजा मिलता कहॉं अन्यत्र, जो मेलों में मिलता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ध्यान
विशाल शुक्ल
विनती
Anamika Singh
✍️✍️किरदार चाहिए था✍️✍️
'अशांत' शेखर
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
विरासत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
आईने पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
बापू को क्यों मारा..
पंकज कुमार कर्ण
★ दिल्लगी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
✍️मेरी माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Sahityapedia
जग के पिता
DESH RAJ
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक
Dr Archana Gupta
छठ गीत (भोजपुरी)
पाण्डेय चिदानन्द
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ बातें
Harshvardhan "आवारा"
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बौद्ध राजा रावण
Shekhar Chandra Mitra
Loading...