Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||

#विधा-आदित्य छन्द आधारित गीत
#विधान-मापनीयुक्त मात्रिक छन्द, क्रमागत दो चरण समतुकांत होना अनिवार्य,
5,14,19 वीं मात्रा पर यति एवं 28 वीं पर विराम
___________________________________________
वेदना, की हर व्यथा में, व्यक्त हो, वह राग हूँ मैं|
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||

मै विरह, की व्यक्तना बन, नित्य ही, जलने लगा हूँ|
प्रेम की, परिकल्पना में, बर्फ सम, गलने लगा हूँ|
प्रेम मे, छल से छला उस, बोध का, वैराग हूँ मैं|
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||

द्वेष का, मारा हुआ मैं, कल्पना, में खो रहा हूँ|
दम्भ की, अर्थी सजा मैं, लाश निज, की ढो रहा हूँ|
रंग बिन, बेरंग दिखता, अब वहीं, बस फाग हूँ मै|
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||

प्रेम की, सरिता बहाने, को नहीं, है नीर बाकी|
उर विरह, से है घवाहिल, अब नहीं, कुछ धीर बाकी|
वर्तिका, उस आश जैसी, अधजली, अनुराग हूँ मैं|
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||

है पड़ी, संवेदना मृत, नेह ने, आधार खोया|
भावना, से रिक्त उर में, है सभी, ने शूल बोया|
वक्ष में, जो है समाहित, उस गरल, का भाग हूँ मैं|
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

2 Likes · 2 Comments · 190 Views
You may also like:
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
ये दिल फरेबी गंदा है।
Taj Mohammad
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
मुक्तक
Ranjeet Kumar
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
✍️थोड़ा थक गया हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
लांगुरिया
Subhash Singhai
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️मिसाले✍️
"अशांत" शेखर
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
प्रकृति का अंदाज.....
Dr. Alpa H. Amin
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...