Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author

$प्रीतम के दोहे

#प्रीतम के दोहे

कठपुतली के खेल से, सजा हुआ हर छोर।
जिसके हाथों आ गई, वही खींचता डोर।।

कहते हैं कुछ और कुछ, करते हैं कुछ और।
गिरगिट भी लज्जित हुआ, देख आज का दौर।।

मुखमंडल है राम का, उर रावण का मीत।
सीता दुविधा में पड़ी, किसके गाए गीत।।

घृणा-प्रेम दोनों सही, फूल-शूल अनुरूप।
शोभित गर्वित कार्य से, जैसे छाया-धूप।।

यंत्र-मंत्र से तंत्र को, रखिए ऊर्जावान।
महकें आँगन द्वार सब, गाए दुनिया गान।।

आलिंगन हो प्रेम से, वचन रूह का नूर।
प्रीतम जीवन फिर रहे, मस्ती से भरपूर।।

जैसी वाणी आपकी, वैसी बोले और।
प्रीतम मीठा बोलिए, खिले मधुर नित भौर।।

#आर.एस. ‘प्रीतम’
सर्वाधिकार सुरक्षित सृजन

2 Likes · 3 Comments · 89 Views
You may also like:
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
कोई बात भी नहीं है।
Taj Mohammad
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
तमाशाई बन गए हैं।
Taj Mohammad
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
इश्क के आलावा भी।
Taj Mohammad
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
✍️बूढ़ा शज़र लगता है✍️
'अशांत' शेखर
गिरवी वर्तमान
Saraswati Bajpai
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
कहते हो हमको दुश्मन
gurudeenverma198
✍️एक घना दश्त है✍️
'अशांत' शेखर
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
'अशांत' शेखर
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
कौन समझाए।
Taj Mohammad
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
✍️✍️बूद✍️✍️
'अशांत' शेखर
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...