Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 25, 2017 · 1 min read

प्रियतम

मेरे एकाकी जीवन में
बनकर आये बहार हरितम प्रीतम तुम
घेर दिया एक सिंदूरी परिधि में
और सिंदूरी हो गया मेरा जीवन
मुझ पर पड़ी बारिश की बूँदे
तुमसे मिलकर निखर उठी
तुमने दी राह जिंदगी को
और सुहानी हो गई हर गली
तुमसे ही श्रृंगार मेरा
तुमसे ही मनुहार मेरा
सावन के हर गीत हैं तुझसे
तुझसे ही संसार मेरा
सर्वश्व तुझपे अर्पण है
जीवन सारा समर्पण है

1 Like · 413 Views
You may also like:
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Shankar J aanjna
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
संघर्ष
Sushil chauhan
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
पल
sangeeta beniwal
पिता
Meenakshi Nagar
Loading...