Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2021 · 1 min read

प्रात का निर्मल पहर है

-“प्रात का निर्मल पहर है”-
—————————

प्रात का निर्मल पहर है…
दूर क्षितिज में सूरज निकला,
कण-कण विहँस रहा है पुलकित।
कैसी सुंदर घटा मनोहर,
कोलाहल से दूर जिंदगी।
अंधियारे को दूर भगाकर,
शांत डगर है, शांत शहर है।
प्रात का निर्मल पहर है…

हल्की-हल्की प्रभा है बिखरी,
तृण -तृण पर जलबिंदु है निखरी।
निश्चल जल है, शांत सरोवर,
मंद पवन से खिला कुमुद दल।
वणिक चला फिर अपने पथ पर,
कर्म चक्र की गति अटल है
प्रात का निर्मल पहर है…

फुनगी पर इतराती कोयल,
जगो-जगो ये कहे कुहककर।
अभी समय है सोचो कुछ तुम,
सपने संजाओ सबसे हटकर।
चंचल मन की डोर पकड़ लो,
हठ करने का समय नहीं है।
प्रात का निर्मल पहर है…

जब आएगा सूरज ऊपर,
निदाघ प्रचंड किरणों से आहत।
मन के तरुणाई बुझ जाएंगे,
होगी व्यथित निढाल प्रफुल्ल तन।
इसका भी तुझे खबर नहीं है।
प्रात का निर्मल पहर है…

फिर आएगी सायं बेला,
पश्चिम में रवि अस्ताचल।
सारे दिन जब ढल जाएंगे,
वक़्त का पहिया पंख लगाकर।
ऐसे में विश्रांति कहाँ है।
प्रात का निर्मल पहर है…

मौलिक एवं स्वरचित

© *मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
मोबाइल न. – 8757227201

8 Likes · 6 Comments · 1679 Views
You may also like:
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
कब आओगे
dks.lhp
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
नसीब
DESH RAJ
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
जानता है
Dr fauzia Naseem shad
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Santoshi devi
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (गीतिका)*
Ravi Prakash
लौट आते तो
Dr fauzia Naseem shad
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
बंजारों का।
Taj Mohammad
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
Loading...