Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 9, 2022 · 1 min read

प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!

आज हमारे देश को
क्या हो गया है।
इसका पुराना प्रश्न
कहाँ पर खो गया है।
बेरोजगारी और मंहगाई
के प्रश्न लेकर,
क्यों नही देश आज
आवाज उठा रहा है।

जहाँ आज बेरोजगारी
बहुत बड़ी समस्या का
कारण बन गया है।
कही पढे लिखे नौजवान
मजदूर बन रहे है।
तो कही वें भुखे मर रहे है,
तो कही आत्महत्या कर,
अपने जीवन को समाप्त
कर रहे है।

पर आज देश में कही भी
क्यों नहीं इसका जिक्र
हो रहा है।
क्यों इसका हल
निकालने के लिए,
कही आवाज नही उठ रहा है !
क्यों आज भी यह प्रश्न!
प्रश्न लिए खड़ा है!

न जाने आजकल क्यों इस
प्रश्न को दबा दिया गया है,
और देश में हर जगह पर
हिंदु-मुस्लिम ,मंदिर-मस्जिद
का विवाद चारों तरफ
खड़ा कर दिया गया है।

कोई तो है जो अपने
स्वार्थ के लिए ,
इस साज़िश को
अंजाम दे रहा है,
देश के युवा पीढ़ी को
भटका कर ,
आपसी भाईचारे में
दरार खड़ा कर रहा है।

क्या हो गया है हमारे
युवाओं को,
रोजगार की मांग
करने की जगह ,
दंगा-फसाद में फँसता
जा रहा है,

और कोई दूर बैठकर ,
इन सब का इस्तमाल कर,
अपना रोटी सेंक रहा है
और अपने इस साजिश पर
मन ही मन खुश हो रहा है।

हमारे पढ़े लिखे युवा आज
इन सब में शामिल होकर
अपने पैरो पर खुद ही
कुल्हारी मार रहे है ।
और हमारा पुराना प्रश्न
बेरोजगारी और महंगाई
आज भी प्रशन लिए खड़ा,
उत्तर तलाश रहा है!

~ अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 95 Views
You may also like:
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
प्यार का अलख
DESH RAJ
सूर्यज्वाळा
"अशांत" शेखर
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
"अशांत" शेखर
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
टूटे बहुत है हम
D.k Math
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
✍️✍️हमदर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Satpallm1978 Chauhan
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H. Amin
केंचुआ
Buddha Prakash
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
Loading...