Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

प्रद्युम्न हम बहुत शर्मिंदा हैं

प्रद्युम्न हम बहुत शर्मिंदा हैं
तेरे कातिल क्यों जिंदा हैं ?
माँ का आँचल कह रहा तड़पकर
क्यों मिला लाल को मौत का फंदा है ?

स्कूल तेरा कैसा ये धंधा
उसमें वहशी घूम रहे
विद्या के पावन मंदिर में
रक्त मासूम का चूस रहे ।

कैसे इस सभ्य समाज मे
अबोध निशाना बन जाते हैं
रम रहे मानव में ही दानव
जो शिकार उन्हें बना जाते हैं ।

कैसे मनुज वो कहला सकते
जो कृत्य दनुज के करते हैं
विद्या के पावन मंदिर में भी
अपराध अक्षम्य वो करते हैं ।

कहाँ शिक्षा पाएँगे बच्चे
आज प्रश्न मानवता पूछ रही
कैसे निश्चिन्त हों मात पिता
जब विद्यालय में पशुता घूम रही ।
डॉ रीता

378 Views
You may also like:
पिता
लक्ष्मी सिंह
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आओ तुम
sangeeta beniwal
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
झूला सजा दो
Buddha Prakash
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आस
लक्ष्मी सिंह
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Nurse An Angel
Buddha Prakash
Loading...