Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 25, 2017 · 1 min read

प्रदूषण

सरहदें लाँघ गया घुसपैठिया
हर साँस,हर सोच,हर धड़कन को नजरबंद किया
प्रकृति की पीठ पे छुरा भोंप अपनी साख जमा दी
इंसानों ने भी तो अपनी हद भुला दी
कर रहा प्रकृति के नियमों का उलंघन
इस कारण बन गया, ‘काल ‘ प्रदूषण।
** ” पारुल शर्मा ” **

244 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Neha Sharma
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
कवि
Vijaykumar Gundal
लाल टोपी
मनोज कर्ण
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
✍️थोड़ा थक गया हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
✍️हलाल✍️
"अशांत" शेखर
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
जीवन और मृत्यु
अनामिका सिंह
मौत।
Taj Mohammad
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...