Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2021 · 2 min read

प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक

अतीत के झरोखों से
————————————————–
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से 18-7-1966)
?☘??☘????☘?
“प्रदीप” रामपुर से “ज्योति” के बाद प्रकाशित दूसरा हिंदी साप्ताहिक था ।यह श्री रघुवीर शरण दिवाकर राही का पत्र था जो उर्दू के जाने-माने शायर, हिंदी के प्रतिभाशाली कवि, प्रखर चिंतक तथा दीवानी मामलों के ऊँचे दर्जे के वकील थे।
प्रदीप का पहला अंक 26 जनवरी 1955 को तथा अंतिम अंक 18 जुलाई 1966 को प्रकाशित हुआ। इस तरह साढे़ दस वर्षों तक प्रदीप ने रामपुर के साहित्यिक, सामाजिक और राजनीतिक जीवन में अपनी धारदार लेखनी की एक अलग ही पहचान बनाई ।यह उचित ही था क्योंकि श्री दिवाकर राही उन लेखकों में से थे, जिनकी लेखनी की सुगंध से ही यह पता लगाया जा सकता था कि यह लेख श्री दिवाकर राही.का है। ऐसी सुगठित ड्राफ्टिंग जो दिवाकर जी लिखते थे ,भला और कौन लिख सकता था । सधे हुए शब्दों में अपनी बात को कहना और विरोधी को निरुत्तर कर देना ,यह केवल दिवाकर जी के ही बूते की बात थी ।
प्रदीप ने प्रकाशित होते ही अपनी गहरी छाप पाठकों पर छोड़ी । स्थानीय समाचारों से लेकर राष्ट्रीय परिदृश्य पर प्रदीप की गहरी नजर थी। इसके विशेषाँक अनूठे होते थे और उसमें काव्यात्मक टिप्पणियाँ विशेषाँक को चार चाँद लगा देती थीं। दिवाकर जी की जैसी विचारधारा थी, उसके अनुरूप प्रदीप ने धर्मनिरपेक्ष ,समाजवादी और बल्कि कहना चाहिए कि मनुष्यतावादी दृष्टिकोण को सामने रखकर अपनी यात्रा आरंभ की।
प्रदीप निडर था और किसी के सामने झुकने वाला नहीं था । जो सत्य था, उसी को पाठकों के सामने प्रस्तुत करने में प्रदीप का विश्वास था । प्रदीप वास्तव में देखा जाए तो खोजी पत्रकारिता और घोटालों को उजागर करने की दृष्टि से भी एक गंभीर पत्र रहा। यह सब इस बात को दर्शाता है कि प्रदीप की स्थापना और उसका संचालन श्री रघुवीर शरण दिवाकर राही के जिस योग्य हाथों में था ,वह निर्मल विचारों को वातावरण में बिखेरने में विश्वास करते थे। आदर्श हमेशा ऊँचा ही होना चाहिए, यह दिवाकर जी का मानना था। और यही प्रदीप का भी ध्येय था।
मैंने 1985 में जब दिवाकर जी का ” रामपुर के रत्न” पुस्तक के लिए इंटरव्यू लिया था, तब उसके बाद उन्होंने सौभाग्य से प्रदीप के प्रवेशांक का पृष्ठ तीन और चार भेंट स्वरूप मुझे दिया, जो मेरे पास एक अमूल्य दस्तावेज के रूप में सुरक्षित रहा।
————————————————–
लेखक : रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99 97 61 545 1

1 Comment · 474 Views
You may also like:
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अरदास
Buddha Prakash
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
मेरे साथी!
Anamika Singh
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिम्मत और हौसलों की
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
Loading...