Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

प्रथम मेह

बंजर वसुधा हुई प्रसूता,
घन ने गर्भाधान किया।
सुप्त धरा में नव अंकुर ने,
प्रथम मेह पय-पान किया।

अर्धखुले नयनों से अंकुर,
झाँकें मिट्टी के दामन से।
महकी सौंधी गंध मृदा में,
बहती कुदरत के आँगन से।
शुक पिक मोर पपीहों ने मिल,
बरखा का यशगान किया।
सुप्त धरा में नव अंकुर ने,
प्रथम मेह पय पान किया।

छत्र तान कर खड़ी वनस्पति,
मुस्काती अभिषिक्त हुई।
नदी ताल झरनों झीलों के,
जलराशि अतिरिक्त हुई।
हरियाली की नयी चुनरिया,
ओढ़ धरा से मान किया।
सुप्त धरा में नव अंकुर ने,
प्रथम मेह पय पान किया।

मेघों के प्रेमामृत रस से,
तृषित कंठ सब तृप्त हुऐ।
वेद -पाठ- सा करते दादुर,
रजकण सारे लुप्त हुऐ।
जान कृषक ने पावस उत्सव,
कर में हल संधान किया।
सुप्त धरा में नव अंकुर ने,
प्रथम मेह पय पान किया।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’

9 Likes · 20 Comments · 590 Views
You may also like:
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
माँ की याद
Meenakshi Nagar
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
यादें
Sidhant Sharma
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
आपातकाल
Shriyansh Gupta
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
In my Life.
Taj Mohammad
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सुकून
"अशांत" शेखर
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
Loading...