Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 6, 2016 · 1 min read

प्रतीक्षा

“नींद अटकी रही दरवाज़े पर…….
झूलती रही वक्त की खुली सांकल ….”

स्वप्न का दिया,
कितनी ही रातों जला ,
बस यूँ ही……..
दस्तक के इंतज़ार में…..
© 2013 Capt. Semant Harish

1 Like · 293 Views
You may also like:
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
पिता
Shailendra Aseem
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यार
Anamika Singh
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...