Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 28, 2022 · 1 min read

प्रतीक्षा के द्वार पर

प्रतीक्षा के द्वार पर
अपलक नयन से
सजग हो खडे रहकर
कितने रात दिन टांके हैं ।
कितनी अभीप्साओं
को समझा शान्त किया ।
कभी थके कभी हारे
धर धीर पर स्थिर रहे
वर्षों से अनवरत यूँ ही
प्रयास इस प्रतीक्षा में हैं
कि एक दिन कभी तो
मेरे इस द्वार पर भी
सौभाग्य आ विराजेगा ।
और जब वो आएगा
बस उसी के संग हो
जीवन सौन्दर्य की उस
हाट पर मैं जाऊंगी ।
निधियाँ जो भी तृप्ति की,
प्रेम की, उल्लास की ।
ला उन्हें अति प्यार से
जीवन सुभग सजाऊंगी ।
किन्तु मेरी चाह ये सब
आज भी है बस प्रतीक्षित ।
काल की गति में लिपट
सांसें ये घटती जा रही
लम्बी प्रतीक्षा में खड़े हो
पांव भी थककर चूर है ।
हौंसलों का जो दिया
जलता रहा नित साथ में ।
आज उसकी रोशनी भी
बहुत मद्धिम हो चली है ।
धैर्य भी अब सब्र की
सीमा में घटता आ रहा ।
जीवन के दस्तावेजों पर
मन ये हार स्वीकार रहा ।
शायद वो समझ चुका
सीपी में कुछ मोती
अनगढ़ भी होते है ।
जिनके हिस्से में
कभी माला नहीं आती ।

1 Like · 34 Views
You may also like:
कर्म
Anamika Singh
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
*मरने का हर मन में डर है (गीतिका)*
Ravi Prakash
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मनोमंथन
Dr.Alpa Amin
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
'तुम्हारे बिना'
Rashmi Sanjay
शेर
Rajiv Vishal
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
ये खुशी
Anamika Singh
हक़ीक़त सभी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
अदीब लगता नही है कोई।
Taj Mohammad
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
सेमल
लक्ष्मी सिंह
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
हक़ीक़त न पूछिये मुफलिसी के दर्द की।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...