Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 2 min read

प्रतियोगिता का प्रथम स्थान !

प्रतियोगिता का प्रथम स्थान !
“””””””””””””””””””””””””””””””””

जिसने दिखाई हो करतब ,
लगा दी हो अपनी जान !
जो भी हों शब्दों से विद्वान !
शब्दों को अलंकृत करके ,
जिसने डाल दिया हो….
नीरस शब्दों में भी प्राण !
उसे ही मिलना चाहिए ,
इस कठिन प्रतियोगिता का
सर्वोत्कृष्ट प्रथम स्थान !!

आज तो अंतिम दिन है !
चंद घंटे बचे हैं अंगुली पे ,
जिन साहित्य प्रेमियों के पास,
पास, पड़ोस, प्रकृति से
संचित किए गये दृश्यों ,
मन में उठ रहीं कल्पित
सुंदर, खूबसूरत सी उमरती,
भावनाओं को परिष्कृत कर
अपने सुंदर सुंदर अल्फ़ाजों में
सजाने की असीम शक्ति हो….

सदा रखे जो किसी विषय के
कथानक पर संकेंद्रित ध्यान !
जो अपने तूफानी शब्दों से….
ठहरे हुए वक्त में भी ला दे तूफान !
जिसने सफलतापूर्वक दिया हो,
अपने कार्यों को सदा ही अंजाम !
जिस सर्वमान्य छवि के ऊपर ,
जिनके उमरते शब्दों को पढ़कर….
हर कोई ही करे उसका गुणगान !
उस शख़्स को ही मिलना चाहिए ,
इस प्रतियोगिता का प्रथम स्थान !!

जिसने शब्द,शब्द अपने गढ़कर….
मनगढ़ंत कहानियों में डूबकर….
पर्वत, पठार, वन, नदी, झरने,
झील, तालाब, सागर, महासागर,
उपवन, उद्यान, बाग, बगीचे में जाकर….
वहाॅं फूलों पे मंडरा रहे भंवरे को भगाकर….
झूमते फूल पत्तियों की कोमलता पे ,
और इन खूबसूरत सी वादियों में डूबकर,
उठती समंदर की लहरों से ठोकरें खाकर,
बर्फीली हवाओं से अठखेलियाॅं खेलकर,
हरेक जगह की मौसम का आनंद उठाकर ,
हर खूबसूरत दृश्यों से अनेक भाव चुराकर ,
अपने शब्दों से करता हो इन सबको प्रणाम !
लेखनी के दम पर मचाता हो जो घमासान !
हर कार्य अपने उथल-पुथल कर समर्पित भाव से ,
जिसने उत्कृष्ट रचनाएं लिखी हों सुबहो-शाम !
अमीरी, गरीबी, ऊॅंच-नीच का भेदभाव हटाकर ,
हर वर्ग के लोगों का समानता से जो करे उत्थान !
उसे ही मिलना चाहिए प्रतियोगिता का प्रथम स्थान !!

_ स्वरचित एवं मौलिक ।

© अजित कुमार कर्ण ।
__ किशनगंज ( बिहार )
दिनांक : १५/०६/२०२१.
“””””””””””””””””””””””””””””
????????

8 Likes · 4 Comments · 793 Views
You may also like:
✍️कधी कधी✍️
'अशांत' शेखर
This is how the journey of a warrior begins.
Manisha Manjari
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
🌺प्रेमस्य रसः ज्ञानस्य रसेण बहु विलक्षणं🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
✍️मैं और वो..(??)✍️
'अशांत' शेखर
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
'अशांत' शेखर
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta
देखो
Dr.Priya Soni Khare
*विश्वरूप दिखलाओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
कशमकश
Anamika Singh
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
पिता की सीख
Anamika Singh
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
हिसाब मोहब्बत का।
Taj Mohammad
बुजुर्गों की उपेक्षा आखिर क्यों ?
Dr fauzia Naseem shad
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...