प्रतिबिम्ब

आईने के इस शहर में
हर चेहरा अपना सा लगता हैं

मैं रूखा रूखा तो
सब रूखे रूखे
मैं खुशियों का सागर तो
सब मौजी लहरें सी लगती है

मैं कपटी तो सब कपटी
मैं दानवीर तो सब कर्ण से लगते है
आस पास के कोई और नही
मेरा ही प्रतिबिम्ब लगते है….

प्रो. दिनेश गुप्ता
8007179747

1 Like · 146 Views
You may also like:
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
पिता का पता
श्री रमण
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सफर
Anamika Singh
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H.
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
वो
Shyam Sundar Subramanian
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...